उल्टा स्वास्तिक बनाने से क्या होता है?

उल्टा स्वास्तिक बनाने से क्या होता है?

किसी शुभकार्य में प्रायः लोग शुभता कि प्राप्ति के लिए अपने घर,मंदिर,प्रांगण अथवा कार्यस्थल में स्वास्तिक का निर्माण करते है लेकिन कहीं-कहीं यह देखने को मिलता है स्वास्तिक निर्माण के समय अज्ञानतावश स्वास्तिक रेखा के  निर्माण में कुछ त्रुटि कर दी जाती है या कहे उल्टा  Swastik  बना दिया जाता है , जिसका परिणाम  बहुत ही वीभत्स एवं भयानक होता है।

उल्टा स्वास्तिक बनाने के परिणाम:

सीधा स्वास्तिक आपके जीवन में जितनी तरक्की , भाग्योदय के अवसर लाता है उल्टा स्वास्तिक उतनी ही तीव्र गति से आपसे सबकुछ छीन लेता है । आगमशास्त्रों में भी वर्णित है’  त्रिदशाः पितरः सिद्धा यक्षा रक्षांसि किन्नराः।  साध्याः विद्याधराः भूताः मनुष्याः पशवः खगाः।।
उल्टे स्वस्तिक में मुख्यरूप से भूतमण्डल कि कुछ अत्यंत तमो गुणी एवं रजोगुणी शक्तियों का वास होता है जिनका नाम त्रिदशा; पितर; सिद्धा; यक्ष; राक्षस; भूत; मनुष्य; पशव: खग; इत्यादि…

यह शक्तियां शनैःशनैः आपके जीवन मे उथलपुथल प्रारम्भ करती है इसलिए स्वास्तिक का निर्माण बहुत ही चैतन्यता एवं जागरूकता से करे।

महागणपति साधना प्रकल्प

धुमावती दीक्षा प्रकल्प भाग-2 जै माई की मित्रों, पूर्व लेख (धुमावती दीक्षा प्रकल्प ) में भगवती के दीक्षा के महात्म्य के रूप में श्रीविद्या रूपी अत्यन्ततम शुद्धतम मार्ग का आंशिक

धूमावती साधना प्रकल्प

धूमावती दीक्षा प्रकल्प जै माई की , प्रायः कई तरह की जिज्ञासर्थुओं के द्वारा यह प्रश्न किया जाता है की भगवती धूमावती की साधना कैसे करें तथा इनकी दीक्षा कैसे

कुलदेवी का निषेध “गृहदोष” का मूल कारण

कुलदेवी का महत्व जै माई की आज मैं आपको बतलाऊंगा की आगम की दीक्षा जब आप लेते है । तो सबसे पहले हमारे घर के जो कुल देवता है, जैसे

पंचाग्नि धूमावती साधना

‘धूमावती धूम्रवर्णा धूम्रपान परायणा ।  धूम्राक्षमथिनी धन्या धन्यस्थान वासिनी ।। "                  धूम्रवर्णा धूम्रपान परायणा :- योगाग्निरूपी  धूम्रपान, योग एवं तंत्र की इतनी उच्च

धूमावती के अघोर नाम का रहस्य ! (Part-2)

अघोराचारसंतुष्टा अघोराचारमण्डिता ।  अघोरमंत्र संप्रीता अघोरमंत्रपूजिता।। अघोर   (Aghore)- भगवान् शिव का एक रूप।                        तंत्रशास्त्र के अनुसार भगवान् शिव के

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *